blogid : 3487 postid : 131

मेरा जवाब

Posted On: 17 Nov, 2010 sports mail में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Ashish-Kumarएशियाई खेलों में जिम्नास्टिक और स्विमिंग ऐसी स्पर्धाएं हैं, जिसमें हमने कभी भी पदक की उम्मीद नहीं रखी थी. बात यहां तक आ गई थी कि राष्ट्रमंडल खेलों की जिम्नास्टिक प्रतियोगिता में पदक जीतने वाले आशीष कुमार को बजट न होने के कारण एशियाई खेलों में भाग लेने के लिए मना कर दिया गया था. लेकिन अगर आपको अपने पर भरोसा हो और कुछ कर दिखाने का जज्बा हो तो ऐसा कोई मुकाम नहीं है जिसे आप हासिल नहीं कर सकते हैं.

आशीष को ग्वांगझाऊ न भेजे जाने पर उनके कोच व्लादिमीर चर्तकोव ने कहा था कि अगर आशीष को एशियाई खेलों में भाग लेने का मौका नहीं मिला तो यह बहुत बड़ी भूल होगी क्योंकि आशीष प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं जिसने राष्ट्रमंडल खेलों में देश को पहली बार जिम्नास्टिक में पदक दिलाया अतः आशीष के पास पूरा हक है कि वह एशियाई खेलों में भाग लें.

यह तो थी पुरानी बातें जिसने आशीष को कुछ कर दिखाने की प्रेरणा दी, उसने मन ही मन ठान लिया कि मुझे उन सबको दिखाना है जो मेरे खिलाफ़ थे. आशीष के जहन में ज्वालामुखी उफ़ान मार रहा था जो 16 नवम्बर को ग्वांगझाऊ में फूटा. जिसके कारण आशीष कुमार ने इतिहास बनाते हुए पुरुष वर्ग की कलात्मक जिम्नास्टिक की फ्लोर स्पर्धा में कांस्य पदक जीता. इलाहाबाद के इस जिम्नास्ट ने 14.92 का फाइनल स्कोर बनाया. गौर करने वाली बात यह है कि उन्होंने यह पदक चीन, जापान और दक्षिण कोरियाई जिम्नास्टों के खिलाफ़ जीता

Virdhaval-Khadeखाड़े ने रचा इतिहास

कल ग्वांगझाऊ में इतिहास बनाने वाले केवल आशीष कुमार अकेले नहीं थे. 19 वर्षीय वीरधवल खाड़े ने स्विमिंग में 24 साल का सूखा खत्म करते हुए कांस्य पदक जीता. वीरधवल खाड़े ने मंगलवार को एशियन गेम्स में स्विमिंग की 50 मीटर बटरफ्लाई स्पर्धा में यह कारनामा किया. उन्होंने 24.31 सेकंड का समय निकालकर तीसरा स्थान हासिल किया.



Tags:                                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (9 votes, average: 4.89 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

nirbhaysingh के द्वारा
November 18, 2010

pata nahin kyon hamare desh main pratibhaon ki ijjat nahin hoti? jab aasish ne commonweath mein medal liya to uske liye bajat ka rona kyon rora gaya? jab india ne commonwealth mein 3000 crores invest kiye to ab ek pratibhashali ladke ke liye ye rona kyon?Ab to aashish ne aapne aapko prove kar diya hai?Up government aur cintral government ko chahiye ki wo aashish ko financially support karein jisse ki wo olympic me bhi medal la kar desh ka naam roshan kar sake.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran